कोल इंडिया लिमिटेड ने निवेश लक्ष्य को 3000 करोड़ रुपए बढ़ाया, SECL का 800 करोड़ का होगा हिस्सा

कोलकाता। कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) ने चालू वित्त वर्ष के लिए अपने पूंजीगत व्यय के लक्ष्य को संशोधित कर 13,000 करोड़ रुपए कर दिया है।

उल्लेखनीय है कि सरकार ने केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रमों से कहा है कि वे आर्थिक गतिविधियों को प्रोत्साहन देने के लिए अपने व्यय में बढ़ोतरी करें।

कोल इंडिया ने अपने बयान में कहा कि 2020-21 के 10,000 करोड़ रुपए के निवेश लक्ष्य में 30 प्रतिशत की बढ़ोतरी की गई है।

इसे भी पढ़ें: IP News EXCLUSIVE : चीन पर निर्भरता खत्म करने छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में लिथियम की खदान होगी शुरू! सर्वे में पर्याप्त मात्रा में मिला है REE

कुल 3,000 करोड़ रुपए के अतिरिक्त निवेश में सीआईएल की सबसे बड़ी कोयला उत्पादक अनुषंगी साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (SECL) का हिस्सा करीब 800 करोड़ रुपए है। इसमें सीआईएल मुख्यालय का हिस्सा 585 करोड़ रुपए और महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड का हिस्सा 550 करोड़ रुपए है।

सेंट्रल कोलफील्ड्स लिमिटेड का अतिरिक्त व्यय में हिस्सा 460 करोड़ रुपए है। चालू वित्त वर्ष के पहले नौ माह में सीआईएल का निवेश लक्ष्य 166 प्रतिशत बढ़कर 7,801 करोड़ रुपए पर पहुंच गया।

इसे भी पढ़ें: WCL को शिखर पर पहुंचाने वाले राजीव रंजन की किताब “असंभव संभव” से मिलेगी टीम भावना से सफलता हासिल करने की सीख, 15 को विमोचन

वित्त वर्ष के पहले नौ माह में कंपनी का वास्तविक खर्च 4,871 करोड़ रुपए रहा है। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में कंपनी ने 2,930 करोड़ रुपए खर्च किए थे। इस तरह कंपनी ने अप्रैल-दिसंबर की अवधि में मूल निवेश बजट का 78 प्रतिशत इस्तेमाल किया है।

सरकार ने कंपनी को निर्देश दिया था कि वह दिसंबर के अंत तक 7,500 करोड़ रुपये के निवेश को पूरा करे।

कंपनी ने कहा कि उसने कुल 7,801 करोड़ रुपये के निवेश का इस्तेमाल किया है, जो सरकार के निर्देश से 301 करोड़ रुपये अधिक है।