सब कुछ झोंक कर कोयला उत्पादन एवं प्रेषण बढ़ाने पर दें जोर, कोयला मंत्री ने रांची में CCL व BCCL प्रबंधन के साथ की बैठक

श्री जोशी ने अधिकारियों से कोयला उत्पादन एवं ऑफटेक स्थिति की जानकारी ली। इस दौरान केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि कोयला कंपनियां अपना सब कुछ झोंक कर कोयला उत्पादन एवं प्रेषण बढ़ा रही हैं।

रांची। गुरुवार को केन्द्रीय कोयला मंत्री प्रल्हाद जोशी ने रांची में सेंट्रल कोलफील्ड्स लिमिटेड (CCL) एवं भारत कोकिंग कोल लिमिटेड (BCCL) प्रबंधन के साथ समीक्षा बैठक की। श्री जोशी ने अधिकारियों से कोयला उत्पादन एवं ऑफटेक स्थिति की जानकारी ली। इस दौरान केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि कोयला कंपनियां अपना सब कुछ झोंक कर कोयला उत्पादन एवं प्रेषण बढ़ा रही हैं।

इसे भी पढ़ें : 21 तेल और गैस ब्लॉक के लिये केवल तीन बोलीदाता सामने आये, वेदांता व रिलायंस इंडस्ट्रीज ने बनाई दूरी

श्री जोशी ने कोयला उत्पादन की निरंतरता को सुनिश्चित करने और उसे विद्युत संयंत्रों को भेजने का निर्देश जारी किया। कोयला मंत्री ने कहा, “त्योहारों के सीजन की शुरूआत हो चुकीहै और हमारा कर्तव्य है कि हम विद्युत संयंत्रों में कोयले की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित करें।“ उन्होंने कहा कि कोयला कंपनियों को कोयला निकासी और उत्पादन में आने वाली बाधाओं को दूर करनेके लिए आवश्यक कदम उठाना चाहिए। श्री जोशी ने कंपनी कर्मियों का उत्साहवर्धन कर उनसे कोयले की मांग के अनुसार आपूर्ति करने का आह्वान किया।

इसके पहले श्री जोशी ने झारखंड के चतरा जिले में अवस्थित सीसीएल की अशोक ओपनकास्ट कोयला खदान का दौरा किया। यहां बताना होगा कि 20 मिलियन टन की सालाना peak-rated क्षमता वाली यह खदान सीसीएल की सबसे बड़ी कोल परियोजनाओं में से एक है। कोयला मंत्री ने खदान के कामगारों से बातचीत की और उनका कोयला उत्पादन एवं ऑफटेक बढ़ाने के प्रति उत्साहवर्धन किया।

श्री जोशी ने अशोक कोयला खदान में कार्यरत एक सरफेस माइनर की कार्यप्रणाली को भी देखा। सरफेस माइनर ध्वनि और धूल के प्रसार में कमी के साथ कोयला खनन को अधिक उत्पादक बनाते हैं। कोयला मंत्री ने अशोक खदान के माइनिंग इंजीनियर्स के साथ संवाद किया और समुचित साइज़ के कोयले की लोडिंग किए जाने पर जोर दिया।

दौरे के दौरान श्री जोशी ने बछरा रेलवे साइडिंग का निरीक्षण किया, जहां थर्मल पॉवर स्टेशन को डिस्पैच करने के लिए एक रैक में लोडिंग की जा रही थी। निरीक्षण के दौरान रेलवे वैगनों में समुचित गुणवत्ता और मात्रा में कोयले की लोडिंग करने पर जोर दिया।

इसे भी पढ़ें : Live Update : एसईसीएल का दौरा, समीक्षा बैठक में कोयला मंत्री की दो टूक- प्रोडक्शन और डिस्पैच पर हो पूरा फोकस, रात्रि विश्राम गेवरा में

देश के विद्युत संयंत्रों में ईंधन की कमी बनी हुई है। इसको देखते हुए कोयला मंत्री द्वारा सीआईएल की अनुषांगिक कंपनियों का दौरा किया जा रहा है। श्री जोशी ने बुधवार को एसईसीएल के तीन मेगा प्रोजेक्ट का निरीक्षण किया था। श्री जोशी के साथ सीआईएल चेयरमैन प्रमोद अग्रवाल, कोयला मंत्रालय के अपर सचिव व्हीके तिवारी, संयुक्त सचिव बीपी पति भी दौरे पर थे।

सोशल मीडिया पर अपडेट्स के लिए Facebook (https://www.facebook.com/industrialpunch) एवं Twitter (https://twitter.com/IndustrialPunchपर Follow करें …