इफ्फी, 2020 के लिए भारतीय पैनोरमा फ़िल्मों के चयन की घोषणा

इक्यावनवें भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव ने वर्ष 2020 के लिए भारतीय पैनोरमा फिल्मों के चयन की घोषणा कर दी है. चयनित फिल्मों को गोवा में 16 से 24 जनवरी, 2021 तक 8 दिनों तक होने वाले फिल्म महोत्सव के दौरान सभी पंजीकृत प्रतिनिधियों और चयनित फिल्मों के प्रतिनिधियों के लिए बड़े पर्दे पर प्रदर्शित किया जाएगा.

183 समकालीन भारतीय फिल्मों के एक विस्तृत पूल से चयनित, फिल्मों का यह संग्रह भारतीय फिल्म उद्योग की जीवंतता और विविधता को दर्शाता है. प्रख्यात निर्णायक समिति के पैनल में शामिल प्रख्यात गणमान्यों ने फीचर और नॉन-फीचर दोनों श्रेणियों में भारतीय पैनोरमा फिल्मों के चयन में अपनी व्यक्तिगत विशेषज्ञता का उपयोग किया और समान सहमति बनाने में अपना योगदान दिया.

बारह सदस्यों से युक्त फीचर फिल्म जूरी की अध्यक्षता जाने-माने फिल्म निर्माता, पटकथा लेखक और निर्माता जॉन मैथ्यू मैथन के द्वारा की गई. फ़ीचर जूरी में शामिल निम्नलिखित सदस्य एक ओर व्यक्तिगत रूप से विभिन्न नामचीन फिल्मों, फिल्म संस्थाओं और व्यवसायों का प्रतिनिधित्व करते हैं, जबकि सामूहिक रूप से विविध भारतीय फिल्म निर्माता बिरादरी का प्रतिनिधित्व करते हैं:

1. डोमिनिक संगमा, फिल्म निर्माता और पटकथा लेखक

2. जादुमोनी दत्ता, फिल्म निर्माता, पटकथा लेखक और प्रोड्यूसर

3. कला मास्टर, कोरियोग्राफर

4. कुमार सोहोनी, फिल्म निर्माता और लेखक

5. रमा विज, अभिनेता और प्रोड्यूसर

6. राममूर्ति बी, फिल्म निर्माता

7. संघमित्रा चौधरी, फिल्म निर्माता और पत्रकार

8. संजय पूरन सिंह चौहान, फिल्म निर्माता

9. सतिन्दर मोहन, फिल्म समीक्षक और पत्रकार

10. सुधाकर वसंत, फिल्म निर्माता और प्रोड्यूसर

11. टी प्रसन्ना कुमार, फिल्म प्रोड्यूसर

12. यू राधाकृष्णन, पूर्व सचिव, एफएफएसआई

भारतीय पैनोरमा फीचर फिल्म जूरी ने 20 फीचर फिल्मों का चयन किया. भारतीय पैनोरमा 2020 की ओपनिंग फीचर फिल्म के लिए जूरी की पसंद तुषार हीरानंदानी द्वारा निर्देशित फिल्म सांड की आंख (हिंदी) है.

फिल्म फेडरेशन ऑफ इंडिया (एफएफआई) और प्रोड्यूसर्स गिल्ड की सिफारिशों के आधार पर डीएफएफ की एक आंतरिक समिति द्वारा द्वारा 51वें भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव, 2020 की भारतीय पैनोरमा धारा के अंतर्गत तीन मुख्यधारा की फिल्मों का भी चयन किया जाता है.