भारत अपने रणनीतिक पेट्रोलियम भंडार से 50 लाख बैरल कच्चा तेल करेगा जारी

संयुक्त राज्य अमेरिका, चीन, जापान और दक्षिण कोरिया सहित अन्य प्रमुख वैश्विक ऊर्जा उपभोक्ताओं के साथ तालमेल बनाकर यह कच्चा तेल बाजार में लाया जाएगा।

भारत अपने रणनीतिक पेट्रोलियम भंडार से 50 लाख बैरल कच्चा तेल जारी करने पर सहमत हो गया है। संयुक्त राज्य अमेरिका, चीन, जापान और दक्षिण कोरिया सहित अन्य प्रमुख वैश्विक ऊर्जा उपभोक्ताओं के साथ तालमेल बनाकर यह कच्चा तेल बाजार में लाया जाएगा।

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि भारत का दृढ़ विश्वास है कि तरल हाइड्रोकार्बन का मूल्य निर्धारण उचित और जिम्मेदार तरीके से बाजार की ताकतों द्वारा किया जाना चाहिए।

भारत ने तेल उत्पादक देशों द्वारा कृत्रिम रूप से तेल की आपूर्ति को मांग के स्तर से नीचे बनाए रखने पर चिंता व्यक्त की है। इसके कीमतों में वृद्धि जैसे नकारात्मक परिणाम सामने आए हैं।

मंत्रालय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी घरेलू स्तर पर पेट्रोलियम और डीजल की ऊंची कीमतों की लगातार समीक्षा कर रहे हैं। मुद्रास्फीति के दबाव को नियंत्रित करने के लिए, सरकार ने इस महीने की 3 तारीख को पेट्रोल पर ‘केंद्रीय उत्पाद शुल्क’ में 5 रुपये और डीजल पर 10 रुपये की कमी की थी।

इसके बाद कई राज्य सरकारों ने ईंधन पर वैट में कमी का फैसला किया। मंत्रालय ने कहा कि सरकार पर भारी वित्तीय बोझ के बावजूद आम लोगों को राहत देने के लिए ये कदम उठाए गए हैं।