थोक मूल्यों पर आधारित मुद्रास्फीति की दर सितम्बर में कम होकर 10.66 प्रतिशत पर आई

कच्चे तेल के मूल्यों में तीव्र वृद्धि के बावजूद खाद्य मूल्य कम होने के बल पर थोक मूल्यों पर आधारित मुद्रास्फीति की दर सितम्बर में कम होकर 10.66 प्रतिशत पर आ गई।

कच्चे तेल के मूल्यों में तीव्र वृद्धि के बावजूद खाद्य मूल्य कम होने के बल पर थोक मूल्यों पर आधारित मुद्रास्फीति की दर सितम्बर में कम होकर 10.66 प्रतिशत पर आ गई। ये लगातार छठा महीना है जब थोक मूल्य सूचकांक दहाई के आंकड़े में रहा है। अगस्त में ये आंकड़ा 11.39 प्रतिशत रहा था।

इसे भी पढ़ें : आधी कीमत पर दवा उपलब्ध कराने छत्तीसगढ़ के 169 शहरों में खुलेंगे 188 मेडिकल स्टोर्स

अपने वक्तव्य में वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ने कहा कि प्रमुख रुप से पिछले वर्ष के इसी महीने के मुकाबले खनिज तेल, मूल धातु, गैर खाद्य वस्तुओं, खाद्य उत्पादों, कच्चे तेल और प्राकृतिक गैस, रसायन और रसायनिक उत्पाद इत्यादि के मूल्य बढ़ने के कारण सितम्बर 2021 में मुद्रास्फीति की दर उच्च स्तर पर रही है।

इसे भी पढ़ें : केन्‍द्र ने राज्‍यों से खाद्य तेलों की कीमतों में कटौती सुनिश्‍चित करने को कहा

खाद्य वस्तुओं में मुद्रास्फीति लगातार पांचवे महीने कम हुई। अगस्त में शून्य से 1.29 प्रतिशत नीचे रहने के बाद सितंबर में ये आंकड़ा और गिरकर शून्य से 4.69 प्रतिशत नीचे आ गया। दालों के मूल्य हालांकि 9.49 प्रतिशत की तीव्र दर से बढ़े।

सोशल मीडिया पर अपडेट्स के लिए Facebook (https://www.facebook.com/industrialpunch) एवं Twitter (https://twitter.com/IndustrialPunchपर Follow करें …