रांची, 31 जुलाई। झारखंड में बेरमो निर्वाचन क्षेत्र के कांग्रेस विधायक कुमार जयमंगल सिंह ने आरोप लगाया है कि उन्हें असम के मुख्यमंत्री से मिलवाने बुलाया गया था।

कुमार जयमंगल सिंह ने हावड़ा में भारी मात्रा में नकदी के साथ पकड़े गए कांग्रेस के 3 विधायकों के खिलाफ शिकायत पत्र लिखा और आरोप लगाया कि तीनों ने उन्हें गुवाहाटी ले जाने और सीएम हिमंत बिस्वा सरमा से मिलने के लिए कोलकाता बुलाया था।

कांग्रेस के कुमार जयमंगल सिंह द्वारा लिखे गए पत्र के अनुसार बिस्वा ने कथित तौर पर नई सरकार में प्रति विधायक 10 करोड़ रुपये के अलावा एक निश्चित मंत्री पद का आश्वासन दिया, जो वर्तमान जेएमएम और कांग्रेस सरकार को गिराने के बाद बन सकता है।

इधर, विधायक कुमार जयमंगल सिंह के आरोपों पर सीएम हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि कांग्रेस के बड़े से बड़े नेता मेरे संपर्क में हैं। राजनीति की बात नहीं है, लेकिन जब एक व्यक्ति 22 साल एक पार्टी में रहता है तो संपर्क तो बनते ही हैं। इसके लिए एफआईआर दर्ज़ करना, पता नहीं कांग्रेस को क्या हो गया है?

पश्चिम बंगाल के हावड़ा जिले में शनिवार को कांग्रेस के तीन विधायकों को 48 लाख कैश के साथ पकड़ा गया था। हावड़ा पुलिस ने मामले में तीनों विधायकों समेत एसयूवी के ड्राइवर और एक सहयोगी को गिरफ्तार कर लिया है। हावड़ा की SP स्वाति भंगालिया ने बताया कि पांचों को आज ही कोर्ट में पेश किया जाएगा।

उधर, झारखंड कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम ने बताया कि तीनों कांग्रेसी विधायकों को सस्पेंड कर दिया गया है। इरफान अंसारी ( जामताड़ा ), राजेश कच्छप (खिजरी) और नमन विक्सल कोंगाड़ी (कोलेबिरा) के खिलाफ रांची के अरगोड़ा थाने में FIR दर्ज कराई गई है।

कांग्रेस के बेरमो विधायक अनूप सिंह उर्फ कुमार जयमंगल सिंह ने रविवार को सुबह 11 बजे प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर के साथ अरगोड़ा थाने में तीनों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। जयमंगल ने आरोप लगाया कि तीनों विधायक कोलकाता के रास्ते गुवाहाटी जाने वाले थे। जहां उनकी मुलाकात असम के CM हेमंत बिस्व सरमा से होनी थी। इन्हें सरकार गिराने के बाद 10 करोड़ रुपए और मंत्री पद ऑफर किया गया था।

पार्टी ने पहले बयान दिया था कि भाजपा का ऑपरेशन लोटस बेनकाब हो गया है। झारखंड में भाजपा विपक्ष में है और झारखंड मुक्ति मोर्चा सबसे बड़ी पार्टी है। उसने कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनाई है। उधर, इन विधायकों में से एक के करीबी ने कहा है कि 40-50 लाख रुपए में सरकार नहीं गिराई जा सकती है।

कैश का असम कनेक्शन!

पुलिस ने अभी कैश के सोर्स का खुलासा नहीं किया है। कुछ रिपोर्ट्स में कांग्रेस सूत्रों के हवाले से ही दावा किया जा रहा है कि इस कैश का असम कनेक्शन है। इतना ही नहीं कुछ दिन पहले ही झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी (JPCC) के एक पूर्व अध्यक्ष की असम के एक कद्दावर बीजेपी नेता से मुलाकात हुई थी। यह बैठक दिल्ली के एक फाइव स्टार होटल के बंद कमरे में हुई थी। उस मुलाकात के दौरान कांग्रेस नेता के बेटे भी उनके साथ थे। पार्टी सूत्रों का दावा है कि मीटिंग के बाद से कांग्रेस नेता ने खामोशी से अपनी बिसात बिछाई। उसमें प्राथमिक तौर पर कांग्रेस के पांच विधायक शामिल हुए। उनमें से तीन शनिवार देर रात कोलकाता पुलिस के हत्थे चढ़ गए।

सोशल मीडिया पर अपडेट्स के लिए Facebook (https://www.facebook.com/industrialpunch) एवं Twitter (https://twitter.com/IndustrialPunchपर Follow करें …