यूपी राज्यसभा चुनाव में आया नया मोड़, BSP में बगावत के बावजूद बजाज का पर्चा खारिज, निर्विरोध चुनाव तय

उत्तर प्रदेश में 10 सीटों के लिए राज्यसभा चुनाव की प्रक्रिया में आज दिन भर चले हंगामे के बीच आखिरकार राज्यसभा चुनाव के निर्वाचन अधिकारी ने 11वें उम्मीदवार प्रकाश बजाज के नामांकन को रद्द कर दिया। पर्चा खारिज होने का कारण उसमें प्रस्तावक के गलत हस्ताक्षर और अन्य कई त्रुटियों थीं। उधर बीएसपी प्रत्याशी रामजी गौतम का पर्चा स्वीकार हो गया है। इसके बाद राज्यसभा की 10 सीटों पर हो रहे चुनाव में बीजेपी के 8, बीएसपी और एसपी के एक-एक उम्मीदवारों सहित सभी दस उम्मीदवारों का निर्विरोध निर्वाचन तय हो गया है।

दिन भर चले घटनाक्रम के बाद बीएसपी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने बताया, “प्रकाश बजाज के प्रस्तावक का नाम गलत था। इसके अलावा फॉर्म 26 में कई गलतियां थीं। इसी कारण उनका पर्चा निरस्त कर दिया गया है। बजाज के एक प्रस्तावक ऐसे भी हैं, जो विधनसभा के सदस्य ही नहीं हैं। ऐसी कई बड़ी गलतियों के कारण उनका पर्चा खारिज कर दिया गया है।” बगावत करने वाले विधायको पर मिश्रा ने कहा, “उन लोगों ने सबके सामने रामजी गौतम के प्रस्तावक के रूप में अपने हस्ताक्षर किए थे। अब वह किस दवाब में गलतबयानी कर रहे हैं, इसका पता नहीं है।”

इससे पहले बुधवार को सुबह 11 बजे बीएसपी के चार विधायक असलम चौधरी, असमल राइनी, हाकिमचंद बिंद और मुजतबा सिद्दीकी ने निर्वाचन अधिकारी के समक्ष पहुंचकर बीएसपी उम्मीदवार रामजी गौतम के नामांकन पत्र से अपना प्रस्ताव वापस लेने की अर्जी दे दी थी। उन्होंने वहां कहा कि नामांकन पत्र पर जिस क्रमांक में दस्तखत हैं, वह उनके नहीं हैं। वहीं, बीएसपी महासचिव सतीश चंद्र मिश्र, विधानसभा में बीएसपी नेता लालजी वर्मा और विधायक उमाशंकर सिंह ने गौतम के पक्ष में नामांकन के समय के वीडियो फुटेज और फोटो प्रस्तुत करते हुए नामांकन को सही बताया।

समाजवादी पार्टी और बीएसपी की तरफ से बुधवार को दिनभर चले तर्क-वितर्क के बाद आखिरकार देर शाम निर्वाचन अधिकारी अशोक कुमार ने एसपी समर्थित प्रकाश बजाज के नामांकन पर आपत्तियों को स्वीकार करते हुए उनका पर्चा खारिज कर दिया। साथ ही बीएसपी उम्मीदवार के नामांकन पत्र पर आई आपत्तियों को खारिज कर दिया।

निर्वाचन अधिकारी के निर्णय के बाद राज्यसभा चुनाव में सभी दस सीटों पर दस उम्मीदवारों का निर्विरोध निर्वाचन तय हो गया है। 2 नवंबर तक उम्मीदवार नाम वापस ले सकते हैं, नाम वापसी का समय बीतने के बाद सोमवार को सभी दस उम्मीदवारों के निर्विरोध निर्वाचन की औपचारिक घोषणा की जाएगी।