नई दिल्ली, 18 जून। वित्तीय वर्ष 2020- 21 में आठ राष्ट्रीय राजनीतिक दलों (Bharatiya Janata Party, Indian National Congress, Bahujan Samaj Party, All India Trinamool Congress, Communist Party of India (Marxist), National People’s Party NPEP, Nationalist Congress Party, Communist Party of India) ने 1373.783 करोड़ रुपए कमाए और खर्च 1094.793 करोड़ रुपए किए। इनमें सबसे अधिक 752.337 करोड़ रुपए की आय केन्द्र की सत्ता पर काबिज भारतीय जनता पार्टी की रही। जबकि प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस ने 285.765 करोड़ रुपए की कमाई की।

भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार राष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय राजनीतिक दलों को अपने आय- व्यय का सालाना हिसाब यानी ऑडिट रिपोर्ट प्रस्तुत करना अनिवार्य है। चुनाव सुधार के लिए काम करने वाली संस्था एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफाफर्म्स (ADR) ने राष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय राजनीतिक दलों द्वारा प्रस्तुत आय- व्यय की रिपोर्ट का विश्लेषण जारी किया है।

राष्ट्रीय दलों को 2020- 21 में हुई आय एवं व्यय का ब्योरा :

  • भाजपा : आय -752.337, व्यय – 620.398
  • कांग्रेस : आय –  285.765, व्यय – 209.00
  • सीपीआई (एम) : आय -171.046, व्यय – 101.806
  • तृणमूल कांग्रेस : आय -74.417, व्यय – 132.537
  • बसपा : आय – 52.467,  व्यय – 17.297
  • एनसीपी : आय –  34.924,  व्यय -12.177
  • सीपीआई : आय -2.129, व्यय – 1.255
  • नेशनल पीपल्स पार्टी : आय -0.698, व्यय -0.323

भाजपा की आय में 79.24 प्रतिशत की गिरावट

भाजपा को 2019-20 में 3623.28 करोड़ रुपए की कमाई हुई थी। इसमें 79.24 प्रतिशत की कमी आई है। 2019-20 के मुकाबले कांग्रेस की 2020-21 की कमाई में 58.11 प्रतिशत की गिरावट आई है। 2019-20 में कांग्रेस की कमाई 682.21 करोड़ रुपए हुई थी।

क्षेत्रीय दलों में डीएमके की सबसे अधिक आय

54 क्षेत्रीय राजनीतिक दलों में 31 ने ही भारत निर्वाचन आयोग के समक्ष 2020- 21 की ऑडिट रिपोर्ट प्रस्तुत की है। इस रिपोर्ट के अनुसार 31 दलों को 529.416 करोड़ रुपए की आय हुई। इन दलों ने 414.028 करोड़ रुपए खर्च किए। क्षेत्रीय दलों में डीएमके की सबसे अधिक 149.95 करोड़ रुपए की कमाई हुई। इसके बाद वाईएसआर कांग्रेस ने 107.99 और नवीन पटनायक की पार्टी बीजेडी ने 73.347 करोड़ रुपए कमाए।

केजरीवाल की आप की इतनी हुई कमाई

दिल्ली और पंजाब की सत्ता में काबिज अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी की इनकम 17.60 करोड़ रुपए हुई। नीतिश कुमार की पार्टी जेडीयू ने 65.31 करोड़ रुपए कमाए। टीआरएस की आय 37.658 करोड़ रुपए हुई।

भाजपा ने ऑटिड रिपोर्ट प्रस्तुत करने में सबसे ज्यादा देर लगाई

राजनीतिक दलों को वित्तीय वर्ष 2020-21 की ऑडिट रिपोर्ट 31 अक्टूबर, 2021 तक प्रस्तुत की जानी थी। आठों राष्ट्रीय दलों ने इसमें देरी की। इसमें भाजपा ने 201 दिनों बाद 21 मई, 2022 को ऑडिट रिपोर्ट निर्वाचन आयोग को दी। कांग्रेस ने निर्धारित तिथि से 109 दिनों बाद ऑडिट रिपोर्ट जमा की। इसी तरह सीपीआई ने 150, एनसीपी ने 144, एनपीईपी ने 106, सीपीएम ने 105, टीएमसी ने 86 और बसपा ने 59 दिनों बाद ऑडिट रिपोर्ट प्रस्तुत की।

आप ने समय से पहले प्रस्तुत की ऑडिट रिपोर्ट

क्षेत्रीय दलों में आम आदमी पार्टी (आप) ने निर्धारित तिथि 31 अक्टूबर से पहले 14 अक्टूबर, 2021 को ऑडिट रिपोर्ट प्रस्तुत कर दी थी। इसी तरह आरएलपी, पीडीए और एनपीएफ ने निर्धारित तिथि से पहले ऑडिट रिपोर्ट प्रस्तुत की। समाजवादी पार्टी (एसपी), राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) जैसे बड़े क्षेत्रीय दल ने अब तक 2020- 21 का आय- व्यय प्रस्तुत नहीं किया है।

सोशल मीडिया पर अपडेट्स के लिए Facebook (https://www.facebook.com/industrialpunch) एवं Twitter (https://twitter.com/IndustrialPunchपर Follow करें …