पतंजलि फूड्स ने 30 सितंबर को समाप्त तिमाही में अपने स्टैंडअलोन शुद्ध लाभ में 31.6 प्रतिशत की गिरावट के साथ 112.30 करोड़ रुपये दर्ज किया है, जो कि एक साल पहले की अवधि में 164.30 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ था।

फास्ट-मूविंग कंज्यूमर गुड्स फर्म ने अपने स्टैंडअलोन रेवेन्यू में 42 प्रतिशत की छलांग लगाते हुए 8,514 करोड़ रुपये की कमाई की है, जो कि एक साल पहले की अवधि में 5,995 करोड़ रुपये थी। एफएमसीजी का स्टैंडअलोन ऑपरेटिंग प्रॉफिट या एबिटा 41.1 फीसदी घटकर 194.6 करोड़ रुपये रह गया, जो पिछले साल की समान अवधि में 330.2 रुपये था। कंपनी ने कहा कि उसका मार्जिन 2.3 फीसदी था, जो एक साल पहले इसी अवधि में 5.5 फीसदी था। कंपनी ने कहा कि सरकार द्वारा उठाए गए मौद्रिक/राजकोषीय उपायों के साथ-साथ तेल और तिलहन पर स्टॉक सीमा को जारी रखने, खुदरा खाद्य तेल की कीमतों में कमी पर सरकार के जोर और उपभोक्ताओं को मूल्य लाभ पारित करने सहित उच्च मुद्रास्फीति के साथ मांग चुनौतीपूर्ण बनी हुई है।

कंपनी के बयान के अनुसार, खाद्य कारोबार ने कंपनी की कुल ब्रांडेड बिक्री में 37.18 प्रतिशत का योगदान करते हुए 2,399.66 करोड़ रुपये की बिक्री हासिल की। इसमें यह भी कहा गया है कि संस्थागत खंड सहित ब्रांडेड बिक्री ने 6,453.45 करोड़ रुपये की बिक्री हासिल की, जो इस अवधि के लिए कंपनी के उत्पादों की कुल बिक्री का 77 प्रतिशत से अधिक है।

हरिद्वार मुख्यालय वाली कंपनी की स्थापना 2006 में रामदेव और बालकृष्ण ने की थी। इसका कार्यालय दिल्ली में है, विनिर्माण इकाइयों और मुख्यालय हरिद्वार के औद्योगिक क्षेत्र में है। कंपनी सौंदर्य प्रसाधन, आयुर्वेदिक दवा, पर्सनल केयर और खाद्य उत्पाद बनाती है। 94 प्रतिशत शेयर होल्ड के साथ कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) बालकृष्ण हैं। रामदेव कंपनी का प्रतिनिधित्व करते हैं और रणनीतिक निर्णय लेते हैं।

सोशल मीडिया पर अपडेट्स के लिए Facebook (https://www.facebook.com/industrialpunch) एवं Twitter (https://twitter.com/IndustrialPunchपर Follow करें …