बालको ने सीमेंट उद्योग को भेजा पहला फ्लाई ऐश रैक

बालको के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं निदेशक अभिजीत पति ने पहले फ्लाई ऐश रैक के रवाना होने के अवसर पर कहा कि पर्यावरण संरक्षण एवं संवर्धन और नागरिकों के हितों को ध्यान में रखकर बालको ने अपने प्रचालन में अत्याधुनिक तकनीकों को स्थान दिया है।

कोरबा। वेदांता समूह की कंपनी भारत एल्यूमिनियम कंपनी लिमिटेड (बालको) ने पर्यावरण संरक्षण एवं संवर्धन की दिशा में महत्वपूर्ण पहल करते हुए देश की प्रमुख सीमेंट उत्पादक कंपनी को पहली बार रेलवे रैक के माध्यम से फ्लाई ऐश की आपूर्ति की है। इससे कम कार्बन वाले सीमेंट के उत्पादन के साथ चक्रीय अर्थव्यवस्था को गति मिलेगी। फ्लाई ऐश का 100 फीसदी उपयोग सुनिश्चित होगा।

बालको के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं निदेशक अभिजीत पति ने पहले फ्लाई ऐश रैक के रवाना होने के अवसर पर कहा कि पर्यावरण संरक्षण एवं संवर्धन और नागरिकों के हितों को ध्यान में रखकर बालको ने अपने प्रचालन में अत्याधुनिक तकनीकों को स्थान दिया है। बालको की उत्पादन प्रक्रिया के दौरान निकलने वाले अनेक उत्सर्जी पदार्थों को नवाचार आधारित तकनीकों से कम करने में मदद मिली है। पुनर्चक्रण के जरिए अनेक सह उत्पादों का दोबारा प्रयोग भी किया जाता है। पर्यावरण प्रबंधन और कार्बन फुटप्रिंट कम करने की दिशा में नई तकनीकों की भूमिका महत्वपूर्ण है। श्री पति ने कहा कि बालको और सीमेंट उद्योग मिलकर फ्लाई ऐश का प्रभावी प्रयोग सुनिश्चित करने की दिशा में काम कर रहे हैं। इससे पर्यावरण संवेदी उत्पादन प्रक्रिया को निरंतर बनाए रखने में मदद मिलेगी।

बालको द्वारा अनेक सीमेंट उत्पादक कंपनियों को फ्लाई ऐश की आपूर्ति की जा रही है। रेल मार्ग से फ्लाई ऐश की आपूर्ति से बालको को अपने पर्यावरण प्रबंधन संबंधी लक्ष्यों को पाने में मदद मिलेगी। बालको ने भारतमाला परियोजना के अंतर्गत भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के साथ साझेदारी की है। इसके अंतर्गत राजमार्गों के निर्माण के लिए बालको द्वारा एनएचएआई को फ्लाई ऐश की आपूर्ति की जा रही है।

इसके अलावा बालको ने विश्वेश्वरैया नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (व्हीएनआईटी), नागपुर के साथ समझौता (एमओयू) किया है जिसके अंतर्गत संयंत्र परिसर और आसपास के क्षेत्रों में होने वाले सड़क निर्माण कार्यों में व्हीएनआईटी द्वारा विकसित ग्रीन कांक्रीट के प्रयोग को बढ़ावा दिया जाएगा। ग्रीन कांक्रीट ऐसा नवाचार है जिसमें फ्लाई ऐश और बॉटम ऐश जैसे औद्योगिक अपशिष्टों का प्रयोग करते हुए निर्माण कार्य संचालित किए जाते हैं। बड़े पैमाने पर ग्रीन कांक्रीट के प्रयोग से पर्यावरण का संरक्षण सुनिश्चित होगा।

पर्यावरण संरक्षण एवं संवर्धन और सतत एवं सुरक्षित कार्य शैली को प्रोत्साहित करने के लिए बालको ने वर्ष 2020 में गोल्डन पीकॉक सस्टेनिबिलिटी अवार्ड, सीआईआई एनर्जी इफीसिएंसी अवार्ड, छत्तीसगढ़ सीआईआई एचएसई एक्सीलेंस अवार्ड हासिल किए। इनके अलावा पिछले वर्षों के दौरान इंटरनेशनल ग्रीन एप्पल अवार्ड, सीआईआई एनर्जी एक्सीलेंस अवार्ड, सस्टेनेबल बिजनेस ऑफ द ईयर अवार्ड, नेशनल अवार्ड फॉर एक्सीलेंस इन एनर्जी मैनेजमेंट तथा एनर्जी एंड एनवायरमेंट ग्लोबल एनवायरमेंट अवार्ड जीते।

सोशल मीडिया पर अपडेट्स के लिए Facebook (https://www.facebook.com/industrialpunch) एवं Twitter (https://twitter.com/IndustrialPunchपर Follow करें …