coal empl

नई दिल्ली, 04 अगस्त। कोल इंडिया लिमिटेड (CIL) की अनुषांगिक कंपनियों में आउटसोर्सिंग के माध्यम से मैनपॉवर में खासी बढ़ोतरी हुई है।

इसे भी पढ़ें : वित्तीय वर्ष 2021-22 में झारखंड को कोयला खदानों से 10,339 करोड़ रुपए का मिला राजस्व

एक जुलाई, 2022 की स्थिति में सीआईएल और अनुषांगिक कंपनियों में ठेका कामगारों की संख्या 89 हजार 79 है। ज्यादातर ठेका कामगार खनन और परिवहन के कार्य में नियोजित हैं। महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड में सबसे अधिक 21 हजार 590 ठेका कामगार कार्यरत हैं।

देखें कपंनीवार ठेका कामगारों की संख्या (01 जुलाई, 2022 की स्थिति में) :

  • ईसीएल – 7,045
  • बीसीसीएल- 6,110
  • सीसीएल- 6,461
  • डब्ल्यूसीएल- 11,107
  • एसईसीएल- 14,912
  • एमसीएल- 21,590
  • एनसीएल- 20,265
  • सीएमपीडीआई- 908
  • एनईसी- 369
  • सीआईएल ()- 312
  • कुल – 89,079

इसे भी पढ़ें :डेढ़ साल बाद होगी कोल इंडिया वेलफेयर बोर्ड की बैठक

कोयला मंत्री का आउटसोर्सिंग पर जोर

यहां बताना होगा कि कोयला मंत्री द्वारा अप्रेल में संसद में यह बताया गया था कि सीआईएल द्वारा परिकल्पित उच्च उत्पादन को देखते हुए और अधिक कर्मचारियों की आवश्यकता होगी। सीआईएल और इसकी सहायक कंपनियों दोनों के स्तर पर क्रमशः कार्यपालकों और गैर कार्यपालकों के लिए जनशक्ति बजटिंग की जाती है। नई भर्ती जनशक्ति बजट के आधार पर की जाएगी। इसके अलावा खनन कार्यकलापों और संबद्ध कार्यों अर्थात् कोयले का परिवहन और अन्य सहायक कार्यकलापों में आउटसोर्सिंग के माध्यम से संविदा कर्मियों की बड़े पैमाने पर नियुक्ति होगी।

कोल सेक्टर की खबरें पढ़ने क्लिक करें : https://www.industrialpunch.com/category/coal/ 

सोशल मीडिया पर अपडेट्स के लिए Facebook (https://www.facebook.com/industrialpunch) एवं Twitter (https://twitter.com/IndustrialPunchपर Follow करें …